प्रार्थना -प्रार्थना के जादुई फायदे

अनुशासन क्या है ?

अनुशासन क्या है ? क्या अनुशासन का कोई मतलब कोई दिक्कत पैदा करना या कोई गलती हो जाने के बाद उसे दूर करना है ? क्या इसका मतलब कोई चीज ऊपर से से थोपना है ? क्या इसका अर्थ दुर्व्यवहार करना है ? क्या इसका अर्थ आजादी छीन लेना है ? 

इनमें से किसी का भी जवाब हाँ  है। अनुशासन का मतलब यह नहीं है की इंसान बेल्ट उठा कर पीटना शुरू कर दे।  यह तो पागलपन है।  अनुशासन मतलब  है दृढ़ता। यह एक दिशा है।

इसका मतलब समस्या पैदा होने से पहले ही उसकी वजह मिटा देना। इसका मतलब है ऊर्जा को बड़ी उपलब्धियां हासिल करने की दिशा में प्रवाहित और व्यवस्थित करना।

अनुशासन प्यार का इजहार का एक तरीका है। कई बार हमको भलाई करने के लिए सख्ती करनी भी पड़ती है।सभी दवाइयां मीठी नहीं होती है और ना ही दर्द के बिना ऑपरेशन किये जा सकते हैं फिर भी हमें उनका सहारा लेना पड़ता है। 

अच्छे माँ- बाप का मिलना हमारी विरासत की बहुत बड़ी देन होती है। धोखाधड़ी वाले कामों से जुड़े माँ-बाप दुर्भाग्य से भावी पीडियों के लिए बुरे उदाहरण पेश करते हैं। 

आत्म – अनुशासन हमारे आनंद को खत्म  बढ़ाता है।  आपने देखा  होगा की कई सारे लोग प्रतिभा और क्षमता के बावजूद  नाकामयाब हैं। वे मायुश होते हैं और यह बात उनके व्यापार और सेहत और रिश्ते पर असर डालती है। वे संतुस्ट नहीं होते हैं और अपनी समस्याओं के  कप दोष देते रहते हैं। वे यह महसूस नहीं कर पाते हैं की कई समस्याएं अनुशासन की कमी से पैदा हुई है।   

आत्म – अनुशासन हमारे आनंद को खत्म  बढ़ाता है।  आपने देखा  होगा की कई सारे लोग प्रतिभा और क्षमता के बावजूद  नाकामयाब हैं।

वे मायुश होते हैं और यह बात उनके व्यापार और सेहत और रिश्ते पर असर डालती है। वे संतुस्ट नहीं होते हैं और अपनी समस्याओं के  कप दोष देते रहते हैं। वे यह महसूस नहीं कर पाते हैं की कई समस्याएं अनुशासन की कमी से पैदा हुई है। अनुशासन प्रेमभरी दृढ़ता है।

Related post-

अनुरूपता

सवाल ही जवाब  है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *