एक महान दिन की शुरुआत करें

एक महान दिन की शुरुआत करें
MORNING HABBITS

एक महान दिन की शुरुआत करें -एक महान दिन जीवन अच्छी तरह जिए गए दिनों की मोतियों के हार की पिरोयी गई श्रृंखला से ज्यादा कुछ नहीं होता। महान दिनों के लिए एकाग्र हों,और एक महान दिन का आना तय है। 

 

    1.  अपने दिन की शुरुआत 10 चीजें लिखकर करें ,जिनके लिए आपको अपने जीवन में कृतज्ञ होना  है। 

    2. ३० मिनटों का समय लेकर  विवेक बढ़ाने वाला साहित्य से कुछ पड़ें ,ताकि आपका नजरिया फिर से बहाल कर सकें और खुद को आप प्रेरित कर सकें। 

    3. 5 मिनट का समय लेकर अपने दिन की योजना बनाएं और उसके द्वारा एक ऐसा साँचा की रचना करें ,जिसके आधार पर आप दिन के बाकि घंटे बिताएं। इसके अतिरिक्त 3 ऐसे छोटे-छोटे लक्ष्य तय करें ,जिन्हें आप इस दिन हर हालत में हासिल करेंगें। 

    4. ऐसे आहार लें ,जिसे एथिलीट अपने जीवन की सबसे अहम् स्पर्धा की तयारी करते हुए लेगा और प्रयाप्त मात्रा में पानी पियें 

    5. अपने दिन के अंत में ,अपने जर्नल में लिखकर गहराई से यह चिंतन करें की आपने इसे कैसे बिताया। अपने कार्यों का मूलयांकन करें और उन क्षेत्रों की पहचान करें, जिन्हें बेहतर करना है। 

  1. अपने दिन को अपनी छोटी-छोटी जीतों पर सोंचते हुए एक ऊँचे स्तर पर समाप्त करें ( जैसे ,वे वचन जो आपने निभाया ,व्यायाम जिनका आपने आनंद उठाया,सम्बन्ध जो आपने बनाये ,सबक जो आपने सीखा। )

 

 

प्रेरक वचन –

 

हमें इसके लिए सावधान रहना चाहिए की हम अनुभव से सिर्फ उसकी सिख निकाल लें और आगे न बढ़ें,वरना हम एक बिल्ली की तरह ही बन जायेंगे ,जो एक गरम चूल्हे के ढक्कन पर बैठ जाती है। वह फिर कभी भी गरम के चूल्हे के ढक्कन पर नहीं बैठेगी और वह ठीक ही होगा, मगर तब वह एक ठंढे चूल्हे के ढक्कन पर भी नहीं बैठ सकेगी। 

                                                                                                 मार्क ट्वेन। 

जीवन छोटा है। अपने जीवन में सबसे अहम चीजें न भूलें : दूसरे लोगों के जीने तथा उनका भला करना। 

                                                                                                  – मार्कस ओरेलिया। 

 नेतृत्व की सबसे बड़ी विडंबना यह है की आप जितना ज्यादा देते हैं ,उतना ही ज्यादा पाते हैं। और जब सब कुछ कहा तथा  है ,तो जो सर्वोत्तम तथा टिकाऊ आप कभी दे सकेंगे ,वह वही  होगा जिसे आप अपने पीछे छोड़ जायेंगे। अपने पीछे आनेवाली पीढ़ियों को अपनी विरासत वे मूल्य होंगे,जिन्हें आप जोड़ेंगे और वे जीवन होंगे ,जिन्हें आप बेहतर करेंगे। 

                                                                                                 – रॉबिन शर्मा।  

 

RELATED POST

दैनिक प्रेरणा प्रत्येक दिन के लिए एक सुविचार 

प्रभावशाली व्यक्तित्व की कला

आकर्षण के नियम

कृतग्यता

 

 

न्यवाद दोस्तों ,

आज का पोस्ट एक महान दिन की शुरुआत करें मैंने लिया है एक किताब जिसका नाम है मुट्ठी में तकदीर जिसके लेखक हैं रोबिन शर्मा। इस किताब में जीने का तरीका बताया गया है ,आप इसे जरूर पड़ें। 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *