आज का मैंने पोस्ट लिया है मुनि श्री तरुण सागर जी के प्रवचन से जो की मथुरा में ज्ञान ज्ञान वर्षा कर रहे थे। उम्मीद करता हूँ की ये पोस्ट आपको पसंद आएगा।

अपनी सेहत का ध्यान रखो क्यूंकि ये सच है अगर आपका सेहत अच्छी है तो सब कुछ हैऔर आपका सेहत अच्छा नहीं सबकुछ होते हुए भी उसका कोई मतलब नहीं।

कड़वे प्रवचन -अनीति से कमाया हुआ पैसा १० साल से ज्यादा नहीं रुकता है। इसलिए हमेशा निति और ईमानदारी का कमाइए।

कड़वे प्रवचन – एक आदमी सिगरेट पर भासन देता था लम्बे लम्बे भाषण देता था एक दिन वो खुद ही सिगरेट पि रहा था तो उसे मुनिश्री ने कहा -आप ही सिगरेट पि रहे हो ? तो वो कहता है -मैं सिगरेट कहाँ पी रहा हूँ ? मैं तो इसे जला कर राख कर रहा हूँ।


जलता हुआ दिया ही दूसरों को रौशनी दे सकता है जो खुद ही बुझा हुआ है तो वो दूसरों को क्या रौशनी देगा ?

-मुल्ला नसरुद्दीन एक बार सुबह -सुबह उठकर अपनी बीवी से से कहने लगा अगर मैं प्रधानमंत्री बन गया तो मैं इस दुनिया की तस्वीर बदल दूंगा -उसकी बीवी बोलती है की पहले आप अपना पजामा तो बदल लो सुबह से उल्टा पहने हुए हो।

आपको याद रखना होगा की सामने वाला नहीं बदलेगा आपको बदलना होगा।

बेहतर चाहिए तो आपको बेहतर बनना पड़ेगा

मैं आपसे परिस्तथी के बारे में बात कर रहा हूँ

भाग्य के बारे में नहीं भाग्य का क्या है उसमें क्या लिखा है नहीं कौन जनता है इसलिए मैं कह रहा हूँ क्यूंकि मैंने एक मूवी देखी थी उसका नाम था मांझी (the mountain man ) उस मूवी का बड़ा ही फेमस डायलॉग था- भगवान के भरोशे क्यों बैठे हो उनके भरोशे मत बैठो क्या पता भगवान हमारे भरोशे बैठा हो ?

सबको अच्छा और बुरा मिलता है चुनौतियाँ मिलती है कोई उन चुनौतियों के कारण टूट जाता है और कई उन चुनौतियों के कारण रिकॉर्ड तोड़ देते हैं।

हमारे जीवन में तरह तरह की घटनाएं घटती है यह तो मानव जीवन का हिस्सा है इनका का क्या ये तो आते जाते रहेंगे। आप उन परिस्ठिओं में क्या करते हो कैसी बातें करते हो ? बड़ी बात वो है।




कड़वे प्रवचन -मुनि श्री कहते हैं की – दहेज लेना और देना दोनों पाप है।आप कमाई खाओ पाप कमाई नहीं। आप कमाई खाओ ससुर कमाई खाएंगे तो ससुर के घर में अगले जन्म में आपको नौकर बनकर पैदा होना होगा।

Related  post-

मुनिश्री तरुणसागर जी : एक सफर

jain muni tarun sagar ji maharaj KADVE PRAVACHAN

positive shareing
1Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website

Translate »