कल्पना शक्ति को पहचाने - सफलता के लिए पांचवां जरुरी महामंत्र कल्पना शक्ति।

कल्पना शक्ति को पहचाने

कल्पना शक्ति को पहचाने- सफलता के लिए पांचवां जरुरी महामंत्र कल्पना शक्ति। कल्पना शक्ति ,इमेजिनेशन पावर। आपका जीवन आपकी कल्पनाओं से आकार लेता हैं। आप जैसा बनने की कल्पना करेंगे आपका अवचेतन मन आपको वैसा ही बना देगा।

 

 

 

कल्पना शक्ति को पहचाने

मन में जिनके विस्वास होता है।

वही ज़माने में नाम करते हैं ,

जिनके हौसले होते हैं बुलंद

वही लोग अक्सर बड़े काम करते हैं।

 

 

सफलता के लिए पांचवां जरुरी महामंत्र कल्पना शक्ति। कल्पना शक्ति ,इमेजिनेशन पावर। आपका जीवन आपकी कल्पनाओं से आकार लेता हैं। आप जैसा बनने की कल्पना करेंगे आपका अवचेतन मन आपको वैसा ही बना देगा।

 

कल्पना कीजिये आपके विचार अच्छे हो रहे हैं ,आपकी सेहत अच्छी हो रही है। आप अमीर हो रहे ऐसी कल्पना कीजिये और आप देखेंगे की आपके पास नई-नई अवसर आने की शुरुआत हो जाएगी।

मन की दुनिया सच में जादुई है बस इसे आपको महसूस करने की जरुरत है। मन की कल्पना शक्ति को अपनाकर आप विलक्षण प्रतिभा के धनी हो सकते हैं।

 

 

आप अपनी मन की आँखों से कुछ भी देख सकते हैं,आप निकटतम सम्बन्धियों से बात कर सकते हैं। अपनी माँ-पिता से ,पत्नी ,भाई-बहन या मित्रों या किसी परिचित से भी जो शारीरिक तौर पर आपके सामने मौजूद नहीं है। वे कहीं और हैं फिर भी आप उनसे बात कर सकते हैं है ना जादू !

 

 

यह जादुई शक्ति सभी में मौजूद है और कमाल की बात है की इसके लिए आपको कोई पैसे भी नहीं खर्च करने हैं, तो  फिर आप बैठे क्यों हैं ? मन की शक्ति का प्रयोग कीजिये और अपनी दुनिया बदलिए। अपनी मनचाही दुनिया बनाइये। आप इसका प्रयोग करके समय से पीछे भी जा सकते हैं और आगे भी। आप किसी भी घटना को परिस्तितियों को देख सकते हैं।

 

 

हमारे मन की चार अवस्था होती है –

  • बीटा

  • अल्फ़ा

  • थीटा

  • डेल्टा

जब हम पूरी तरह सोये रहते हैं तो यह अवस्था थीटा कहलाती हैं। जब कोई व्यक्ति  बेहोस रहता है  या कोमा में तो वो डेल्टा अवस्था कहलाता है। जिस तरह से हम दिल की धड़कन को ई.सी.जी. के जरिये जांचते हैं ठीक उसी तरह से मन की अलग अलग अवस्था की जानकारी  ई.सी.जी. से मन की अवस्था को जाना जा सकता है।

 

इन चार अवस्था में अल्फा अवस्था को समझना जरुरी है। अल्फ़ा अवस्था में हम न हम पूरी तरह सोये रहते हैं न जगे हुए। और इसी अवस्था में अवचेतन मन को सुचना दी जाती है। अल्फ़ा अवस्था में आप जाकर आप जो करना चाहते हैं ,जो बनना चाहते हैं आप बन सकते हैं ,आप कुछ भी आसानी से हासिल कर सकते हैं।

 

आप सवाल करेंगे की आखिर अल्फ़ा अवस्था में जाया कैसे जाता है तो आपको बता दें की हम कुदरती रूप से दिन दो बार इस अवस्था से गुजरते हैं।

पहला तो उस समय जब आप सोने जाते हैं तब जाते ही सो नहीं जाते हैं ,आप धीरे-धीरे सोते हैं और यही समय जब आप आधा जगे होते हैं यही अवस्था अल्फ़ा अवस्था कहलाती है।

दूसरा बार जब आप जागते हैं तो धीरे-धीरे जागते हैं ,सोकर पूरी तरह से जागने के बिच का समय। इसके अलावा आप रिलैक्सेशन और ध्यान के माध्यम से अल्फ़ा अवस्था में जाया जा सकता है। इस अवस्था में लगतार किसी निर्देश को 21 बार सुन लेते हैं तो यह पूरी तरह से अवचेतन मन में अंकित हो जाता हैऔर फिर उसे हकीकत में बदलना सुरु कर देता है।

 

सावधानी – आपके अवचेतन मन के पास कोई छलनी नहीं होता है की आपके सकरत्मक विचार कौन से हैं और नकरात्मक कौन से , इसे बस हुक्म मानना आता है चेतन मन का।

 

 

सफलता के लिए 10 महामंत्र

1.विस्वास करना सीखें

2.आत्मछवि

3.दूसरों  के साथ आपका रिश्ता

4.सीखते रहने का गुण विकशित करें

5.कल्पना शक्ति को पहचान

6.हमेशा लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें

7. अपना रोल मॉडल सावधानी से चुनें

8. सकरात्मक सोंच

9. जिम्मेदारी लेना सीखें

10. जो बनना चाहते हैं वैसा महसूस करें

positive shareing
0Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »