चिंता क्या है ? चिंता का सामना करने के 8 जादुई नियम

चिंता क्या है ? चिंता का सामना करने के 8 जादुई नियम -ऐसा नियम जो आपकी चिंताओं को मिटा देगा

 

चिंता क्या है ?-

बार बार एक एक बात के बारे में सोंचना जिससे की आपके साथ क्या बुरा हो सकता है यही चिंता है।

जैसे अभी कोरोना आ गया है ,लॉकडाउन हो है ,घर पे बैठे हैं ,नौकरी रहेगी या नहीं रहेगी। यही चिंता है। आप क्या सकते हैं उसके बारे में सोंचें ना की जो हो गया उसके बारे में। 

 

जो हो गया है उसे स्वीकार कर लें 

 दुनिया की हर बीमारी का या तो इलाज है,या फिर नहीं है ;

अगर इलाज है तो। उसे ढूंढने की कोसिस करें,

अगर इलाज नहीं है ,तो परवाह मत करो। 

 

8 जादुई नियम-जो आपकी चिंता को मिटा देगा। 

 

 जो हो गया उसे स्वीकार कर लो। स्वीकार करना ही किसी दुर्भाग्य के परिणामों से उबरने का पहला कदम है। 

 

नियम 1

इससे पहले की चिंता आपको खत्म कर दे ,आप चिंता को खत्म कर दें 

 

नियम  2

अपने दिमाग को व्यस्त रखकर चिंता को बाहर निकल फेंके। काम में जुटना ही चिंता का ऊतम इलाज है। 

नियम -3

छोटी -छोटी बातों का बतंगड़ ना बनायें छोटी-छोटी चीजों यानि जीवन की दीमकों को अपनी खुसी बरबाद करने ना दें। 

नियम -4

अपनी चिंताओं को जितने के लिए औसत के नियम का प्रयोग करें खुद से पूछें ,इस बात के होने की कितनी सम्भवना है ? 

 

नियम  5

अवश्यभावी के साथ सहयोग करें। अगर आप जानते हैं की किसी प्रस्थति को बदला या सुधारना संभव नहीं है तो खुद से कहें ,यह हो चुकी है है। बदल नहीं सकती। 

नियम  6

अपनी चिंताओं पर स्टाप लॉस ऑर्डर लगा दें। यह फैसला करें  किसी चीज पर कितनी चिंता करनी चाहिए -और फिर उससे ज्यादा चिंता ना करें। 

 

Related Post-

खुशहाल वैवाहिक जीवन के अचूक नुस्खे -ये नुस्खे आजमाएं हुए हैं और अचूक हैं।

चिंता छोड़ो सुख से जियो

 

नियम  7

अतीत को दफ़न कर दें। आरी से बुरादा न चीरें। 

नियम  8

आपने आपको छोटी-छोटी बातों से विचलित होने की अनुमति न दें ,जिन्हें हमें नजरअंदाज कर देना चाहिए और भूल जाना चाहिए। याद रखें ,जिंदगी जितनी छोटी है की घटिया नहीं चाहिए। 

 

कड़वे प्रवचन – मंगल  (ग्रह ) पर जीवन है या नहीं दुनिया में इस बात पर बहस चल रही है लेकिन जीवन में मंगल है या नहीं इस बात की किसी को कोई फ़िक्र नहीं 

 

मैं निवेदन नहीं करुँगा की मंगल पर जीवन ढूंढने के वजाय जीवन में यदि मंगल ढूंढा जाए तो ज्यादा बेहतर होगा। जीवन मंगल है। मगर नासमझी के कारण वह दंगल बना हुआ है। 

 

आपको जिंदगी में यह चुनाव करना है की आप अनुसासन की कीमत चुकाएंगे  अफ़सोस की। 
-टीम कोनर।

– 

अनुरोध-आपसे अनुरोध है की आप सभी घर पे ही रहें। 

confirm cases of corona – 7600 crossed in india.

 

Latest Post

dosa wala ki safalta 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *