चिंता छोड़ो सुख से जियो- Del Karnegi

चिंता छोड़ो सुख से जियो – एक ऐसी किताब जो मुझे लगता है की हर घर में होना ही चाहिए। 

आप देख रहे हैं की अभी कोरोना वायरस एक महामारी के रूप में पुरे संसार में फैला हुआ है ,

अभी भारत में भी 21 दिनों का लॉकडाउन हो रखा है ,वैसे में घर पे खाली बैठे हैं ,मन में तरह-तरह के विचार आने लगते हैं।

 

भविष्य को लेकर वायरस को लेकर ,अपने परिवार  में चिंता होना सुरु हो जाता है। 

चिंता छोड़ो सुख से जियो
chita chodo sukh se jiyo

वैसे में यह किताब चिंता छोड़ो सुख से जियो आपके लिए मार्गदर्शिका का काम करेगी , में हर चिंता पर विजय  प्राप्त कर सकते हैं इसके  बहुत ही अच्छे तरीके से बताया गया है ,जैसे -चिंता के बारे में मूलभूत तथ्य ,जो आपको पता होने चाहिए। 

चिंता छोड़ो सुख से जियो-वर्तमान में एक-एक दिन जियें -हमारा काम यह देखना नहीं की दूर धुधंलके में क्या दीखता है , करना है  सामने है।

 बाइबल के शब्द -आने वाले कल की चिंता मत करो। वही खुस है और केवल वही खुस है ,जो आज को अपना कह सकता है ,जो आत्मविश्वास से कह सकता है ;कल तुम्हें जो करना है कर लेना ,मैंने आज जी लिया है। 

चिंता छोड़ो सुख से जियो-चिंताजनक स्थतियों को सुलझाने का जादुई फार्मूला के बारे में बताया गया है –

पहला कदम – बिना डरे ,ईमानदारी से स्थिति का विश्लेषण करें और अनुमान लगाएं की बुरा-से-बुरा क्या हो सकता है ?

दूसरा कदम – बुरे-से बुरे परिणाम के लिए खुद को तैयार करें 

तीसरा कदम -इसके बाद अपनी पूरी ऊर्जा लगा दें की इस स्थति को कैसे सुधारा जा सकता है ,बुरे-से-बुरे परिणाम को कम कैसे किया जा सकता है ?

 


चिंता आपका क्या बिगाड़ सकती है ? जो चिंता से लड़ना नहीं जानते ,वे जवानी में ही मर जाते हैं -डॉ अलेक्सिस कैरेल। 


चिंता आपके साथ क्या कर सकती है चिंता से हाई ब्लड प्रेसर होता है चिंता से गठिया हो सकता है आपको पेट की बीमारी हो सकती है चिंता से थॉयरॉइड की बीमारी हो सकती है चिंता से डाईबिटिज की बीमारी हो सकती है। 
इससे पहले की चिंता आपको खत्म कर दे आप चिंता को ही खत्म कर दें। चिंता छोड़ो सुख से जियो

मैं तो आपको बोलूंगा की आप इस किताब को आज ही मंगवाएं ,इसे जरूर पढ़ें। मैंने निचे लिंक दे दिया है आप चाहो तो किताब को यहाँ से भी आर्डर कर सकते हैं ,इस शानदार किताब चिंता छोड़ो सुख से जियो  के लेखक डेल कार्नेगी जी जो विश्विख्यात लेखक हैं। 

 

related post-

BEST SELLING BOOKS

निन्याबे का चक्कर 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *