चुनाव आपका है


चुनाव आपका है

इस पृथ्वी पर कोई भी व्यक्ति आपको बिना आपकी अनुमति के छोटा या तुच्छ अनुभव नहीं करा सकता । ईश्वर आपको प्यार करता है – चाहे आपको यह पसंद हो या ना हो ।




जापानी लोग एक पेड़ लगाते हैं ।इसे बोनसाई पेड़ कहते हैं । यह सुंदर होता है और त्रुटि हीन रूप से बना होता है हालाँकि इसकी ऊँचाई इंचो में नापी जाती है । कैलिफ़ोर्निया में हम विशाल वृक्षों का जंगल पाते हैं जिसे सिकवयोश कहते हैं ।

 

इन विशाल वृक्षों में से एक विशाल एक पेड़ का नाम जनरल शरमन रखा गया है । २७२ फ़ीट ऊँचा और ७९ फ़ीट चौड़ा । यह ख़ूबसूरत पेड़ इतना बड़ा है की अगर इसे काटा जाए तो इससे इतनी लकड़ी मिलेगी जो ३५ कमरों का मकान बनाने के लिए पर्याप्त होगा ।

 

एक समय बोनसाई और जनरल शरमन एक ही आकार के थे जब वे बीज थे तो दोनो का वज़न एक औस के १/३००० हिस्से से भी कम था । परिपक्व होने पर आकार में अंतर बहुत अधिक है , परंतु इस आकार में अंतर के पीछे की कहानी जीवन के लिए एक सबक़ है ।

जब बोनसाई पेड़ ने ज़मीन से अपना सर ऊपर उठाया तो जापानियों ने उसे मिट्टी से खिंचा और उसकी जड़ को व पोषक जड़ों को रस्सी से बाँध दिया ।




इस तरह जान-बूझकर उसकी वृद्धि में रुकावट डाल दी । परिणाम हुआ : लघु आकार – ख़ूबसूरत पर लघु आकार ।
जनरल शरमन का बीज कैलिफ़ोर्निया की उपजाऊ ज़मीन में पड़ा और खनिजों , बारिश और धूप से पोषित हुआ । परिणाम हुआ : विशाल वृक्ष ।

 

ना तो बोनसाई और ना ही जनरल शरमन को अपनी नियति का चुनाव करना उपलब्ध था पर आपको है ।

आप चाहे जितना छोटे हो सकते हैं चाहे जितने बड़े । आपकी आत्म-छवि , जिस तरह से आप स्वयं को देखते हैं – निर्धारित करेगी की आप कैसे होंगे । चुनाव आपका है ।




Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *