यह कहानी है एक बुद्धिमान किसान की जिसके पास शेर बकरी और एक घास का गट्ठर को छोटे से नाव से नदी पार ले जाता है । किसान अपने समझदारी से सबको कैसे बचता है कहानी पढ़ें-

 

एक किसान था उसको एक नदी पार करना था । उसके पास एक शेर , घास एक गठठर और एक बकरी था । नदी पार करने के लिए घाट पर एक छोटी सी नाव खड़ी थी । एक बार में सिर्फ़ दो लोग ही बैठकर जा सकते थे , वरना नाव डूब जाती । किसान सोंचने लगा की अब क्या करूँ ?

यदि मैं पहले शेर को ले जाता हूँ , तो बकरी पीछे से घास खा लेगी । यदि घास को ले जाता हूँ , तो मेरे पीठ फेरते ही शेर बकरी को खा जाएगा । हाँ बकरी को ले जाना ठीक रहेगा । इसे दूसरे किनारे पर छोड़कर फिर शेर को ले जाऊँगा । फिर शेर को वहाँ छोड़कर ….अरे …रे …रे … फिर , तो वहाँ भी शेर बकरी को खा जाएगा । अगर घास ले जाऊँगा , तो जब मैं शेर को लेने आऊँगा , तो बकरी घास को खा जाएगी । क्या करूँ ?

किसान के सामने फिर वही सवाल ! बेचारा परेशान हो गया । मगर वह था बड़ा समझदार । सोचते-सोचते उसके दिमाग़ में एक तरकीब आ ही गई ।

 

किसान सबसे पहले बकरी को लेकर चला । वह दूसरे किनारे पर छोड़कर आया , फिर वापस आकर शेर को ले गया । शेर को वहाँ छोड़ा और बकरी को वापस ले आया । फिर बकरी को इस किनारे छोड़ा और घास का गट्ठर ले गया । घास शेर के पास छोड़कर वापस आया और बकरी को ले गया । इस प्रकार उसने बिना किसी को नुक़सान के नदी पार कर ली और ख़ुशी-ख़ुशी अपने घर को चल दिया ।

शिक्षा – बुद्धि से सभी कार्य हो सकते हैं ।

 

 

उम्मीद करता हूँ दोस्तों की आपको ये आज का कहानी बच्चों के लिए बुद्धिमान किसान की कहानी पसंद आया होगा । 

 

positive shareing
2Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website

Translate »