बुद्धिमान किसान की कहानी- बच्चों की कहानी

बुद्धिमान किसान की कहानी

यह कहानी है एक बुद्धिमान किसान की जिसके पास शेर बकरी और एक घास का गट्ठर को छोटे से नाव से नदी पार ले जाता है । किसान अपने समझदारी से सबको कैसे बचता है कहानी पढ़ें-

 

एक किसान था उसको एक नदी पार करना था । उसके पास एक शेर , घास एक गठठर और एक बकरी था । नदी पार करने के लिए घाट पर एक छोटी सी नाव खड़ी थी । एक बार में सिर्फ़ दो लोग ही बैठकर जा सकते थे , वरना नाव डूब जाती । किसान सोंचने लगा की अब क्या करूँ ?

यदि मैं पहले शेर को ले जाता हूँ , तो बकरी पीछे से घास खा लेगी । यदि घास को ले जाता हूँ , तो मेरे पीठ फेरते ही शेर बकरी को खा जाएगा । हाँ बकरी को ले जाना ठीक रहेगा । इसे दूसरे किनारे पर छोड़कर फिर शेर को ले जाऊँगा । फिर शेर को वहाँ छोड़कर ….अरे …रे …रे … फिर , तो वहाँ भी शेर बकरी को खा जाएगा । अगर घास ले जाऊँगा , तो जब मैं शेर को लेने आऊँगा , तो बकरी घास को खा जाएगी । क्या करूँ ?

किसान के सामने फिर वही सवाल ! बेचारा परेशान हो गया । मगर वह था बड़ा समझदार । सोचते-सोचते उसके दिमाग़ में एक तरकीब आ ही गई ।

 

किसान सबसे पहले बकरी को लेकर चला । वह दूसरे किनारे पर छोड़कर आया , फिर वापस आकर शेर को ले गया । शेर को वहाँ छोड़ा और बकरी को वापस ले आया । फिर बकरी को इस किनारे छोड़ा और घास का गट्ठर ले गया । घास शेर के पास छोड़कर वापस आया और बकरी को ले गया । इस प्रकार उसने बिना किसी को नुक़सान के नदी पार कर ली और ख़ुशी-ख़ुशी अपने घर को चल दिया ।

शिक्षा – बुद्धि से सभी कार्य हो सकते हैं ।

 

 

उम्मीद करता हूँ दोस्तों की आपको ये आज का कहानी बच्चों के लिए बुद्धिमान किसान की कहानी पसंद आया होगा । 

 

positive shareing
2Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »