मस्तिष्क की शक्ति-10 शक्तिशाली शक्ति

मस्तिष्क की शक्ति-10 शक्तिशाली शक्ति

मस्तिष्क की शक्ति-10 शक्तिशाली शक्ति-आज के पोस्ट में 10 मस्तिष्क के शक्तिशाली शक्ति के बारे में बताने जा रहा हूँ।

मस्तिष्क की शक्ति-10 शक्तिशाली शक्ति
मस्तिष्क की शक्ति-10 शक्तिशाली शक्ति

जो व्यक्ति अपने मस्तिष्क  पूरा अधिकार पा लेता  है ,वह किसी भी चीज पर अधिकार पा सकता है ,बशर्ते वह उसका हक़दार हो।

-एंड्र्यू कार्नेगी।

सफलता की दिशा में बढ़  रहे लोगों को अपनी आदतें बदल लेनी चाहिए। अमीरी की चाभी इंसान के मस्तिष्क में होती है। 

आप देखिये आप कितने शक्तिशाली हैं ,और आपके पास कितनी शक्तियां हैं। मैं आज आपको आपके पास 10 शक्तिशाली शक्तियों के बारे में बताने जा रहा हूँ। –

मस्तिष्क की शक्ति-

1 असीम बुद्धि 

यह समस्त-विचार शक्ति की शक्ति है की स्त्रोत है और स्वचालित है। लेकिन इसे निश्चित लक्ष्य बनाकर उन्हें पाने के लिए व्यवस्थित और निर्देशित कर सकते हैं।

आप ऐसा समझ सकते हैं असीम बुद्धि एक नदी की धारा या नल की टोंटी है ,जिसमें से लगातार पानी बह रहा है।

बस इसका सही उपयोग करना आना चाहिए।

निश्चित लक्ष्य दवरा आप इसका सही इस्तेमाल कर पाएंगे लेकिन इस महान अधिकार प्रयोग आप सिर्फ आत्म-अनुसासन द्वारा ही कर सकते हैं।

2 – चेतन शक्ति 

मस्तिस्क के दो खंड होते हैं -चेतन और अवचेतन। मस्तिष्क का अवचेतन मन अपने आप काम करता है। इसी के कारन पाचन क्रिया संभव हो पाता है।

आप अवचेतन मन को उपजाऊ बना सकते हैं अपने चेतन मन के द्वारा। आप अपने चतन मन के द्वारा इसमें जो बीज आप बोयेंगे उसी का फसल आप अपनी जिंदगी में  काटेंगे।

अच्छे विचारों द्वारा आप अपने अवचेतन मन को अधिक उपयोगी बना सकते है।

नोट – हमेसा उसके बारे में सोंचे और बोलें  जो आपके चाहिए। क़र्ज़ चाहिए तो कर्ज के बारे में बातें करें और सोंचे यदि आपको अपने जीवन में सम्पन्नता चाहिए तो सम्पन्नता और खुशियों के बारे में बातें करें।

दिमाग और मन में फर्क 

3-इच्छा शक्ति

इच्छा शक्ति मस्तिष्क के सभी विभागों का मुखिया है ,इसके निर्णय ही अंतिम होंगे। यह आपके चतन मन के ही आदेश मानती है और अन्य किसी का नहीं।

4-तर्कशक्ति 

यह चेतन मन की न्यायधीश है जो सभी विचारों ,योजनाओं और इक्षाओं पर अपना निर्णय सुनाता है। आप इसका अच्छा उपयोग आत्म-अनुसासन द्वारा कर सकते हैं। सटिक चिंतन के लिए इसकी जरुरत होती है।

इसका इक्षाशक्ति या तर्कशक्ति से कोई सम्बन्ध नहीं होता।

जिसे हम चिंतन का नाम देते हैं वह अक्सर भावनाओं का काम है।

5-भावनाओं की शक्ति

यह मस्तिष्क के अधिकांश कार्यों का स्त्रोत है। इसी के कारण चेतन में में विचार आते हैं।

इक्षाशक्ति के मार्गदर्शन में तर्कशक्ति और भावनाओं को न परखा जाए तो ये आपको गुमराह कर सकती हैं।

सबसे महत्वपूर्ण और सबसे खतरनाक भावना –

सेक्स की भावना

प्रेम का भाव

डर की भावना

इन भावनाओं के कारण ही इंसान सबसे ज्यादा काम करता हैं। प्रेम और सेक्स की भावना रचनात्मक होती है अगर इसे कण्ट्रोल किया जाये तो हमें रचनात्मक भविष्य -दृष्टि से प्रेरित करती है और अगर इन्हें नियंत्रित या निर्देशित नहीं किया जाता है तो विनाशकरी परिणाम के तरफ ले जा सकता है।

6-कल्पनाशक्ति 

यह वह वर्कशॉप है जहां सभी इच्छाएं ,विचार और उद्देश्य आकार लेते हैं। साथ ही उन्हें साकार करने के साधन यही बनते हैं।

लेकिन भावनाओं की तरह ही कल्पनाशीलता भी तब तक विश्वसनीय नहीं होती है ,जब तक इसे आत्म-अनुसासन से नियंत्रित और निर्देशित न किया जाये।

अनियंत्रित कल्पनाशीलता किसी काम नहीं है।

7-अंतरात्मा की शक्ति 

अंतरात्मा एक सहयोगी मार्गदर्शक के रूप में काम करती है। बशर्ते इसका सम्मान और इसका अनुसरण किया जाये। इसे कठोर आत्म-अनुसासन द्वारा ही नियंत्रित कर सकते हैं।

8-छठी इंद्रीय

यह मस्तिष्क का प्रशासन केंद्र है ,जिसके द्वारा व्यक्ति के कम्पन्न भेजता और प्राप्त करता है ,जिसे आम तौर पर टेलीपैथी कहते हैं। इसमें पूर्वाभास आता है। यह उन लोगों में बड़ी संपत्ति होती है जिन्हें जीनियस माना जाता है।

9-स्मरणशक्ति

यह मस्तिष्क का फ्लाइंग कैबिनेट है ,जहाँ सभी विचार ,आवेग,सभी अनुभव और शरीर के पाँचों इन्द्रिय के माध्यम से मस्तिष्क तक पहुँचने वाली  अनुभूति एकत्रित की जाती है। याद रखना इसका काम है।

10-पांच शरीरक इन्द्रिय

ये मस्तिष्क की भुजाएं हैं ,जिनके द्वारा यह बाहरी दुनिया से संपर्क करता है और उससे जानकारी हासिल करता है ,

‘जैसा की आप जानते हैं पांच शरीरक इन्द्रिय हैं –

आँख

कान

त्वचा

जीभ

नाक

अकसर डर की उपस्थ्ति में ये हर चीज बढ़-चढ़ाकर दिखाती है।

आपको मैंने आज संछिप्त विवरण किया है आपके मस्तिष्क के शक्तियों का। आपके इससे कहीं ज्यादा शक्तियां है ,आप कुछ भी कर सकते हैं।

विस्वास करें अपने ऊपर।

उम्मीद करता हूँ दोस्तों की आपको ये पोस्ट पसंद आया होगा।

निवेदन – यदि आपको यह पोस्ट मस्तिष्क की शक्ति पसंद आया हो तो प्लीज कमेंट जरूर करें। 

RELATED POST-

कल्पना शक्ति की रहस्यमय बातें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *