संकट सफलता की नींव है !

संकट सफलता की नींव है !-क्या आपके जीवन में कभी संकट आया है ? क्या आपके सामने कभी ऐसी समस्या आई है।

जिसने आपको झकझोर दिया हो क्या आपको मुश्किलों का सामना करना पड़ा है ? क्या आप कभी निराश हुए हैं ? तो यह पोस्ट आपके लिए है –

संकट सफलता की नींव है !-12कदम संकट से सफलता की ओर ले जाने वाली
संकट सफलता की नींव है !

चाहे जैसा भी संकट हो ये 12 कदम आपके काम आएगी और किसी भी संकट से उभरने में मदद करेगी। 

कोई व्यक्ति संकट को देखकर घबरा जाते हैं पर कोई इसे अपना टेस्ट मानते हैं ।

हर जिंदगी में एक ऐसा समय आता है ,
एक ऐसा मिनट , जब आपको फैसला करना होगा
की आप खड़े होकर अपने सपनो को जीना चाहेंगे
या गिरकर अपने डरों को जीना चाहेंगे
निर्णय के उस मिनट में
आपको भविष्य-दृष्टि से काम लेना होगा
और उस शक्ति का प्रयोग करना होगा
जो आपके भीतर गहराई में छुपी है !
फिर आप देखेंगे
की सपने सचमुच सच हो सकते हैं और होते हैं
और यह भी की सब चीजें दरअसल संभव है…..
बसर्ते आप विस्वास कर सकें !
अपनी जिंदगी बदलने में सिर्फ एक मिनट का समय लगता है !
यह सिखने में सिर्फ एक मिनट लगता है की
संकट और कुछ नहीं बल्कि
संकट सफलता की नींव है !

लीडर के अनिवार्य 21 गुण-21 Qualities of leaders In Hindi

संकट सफलता की नींव है -आज के क्रांतिकारी विचार- संकट आने पर घबराना नहीं चाहिए क्यूँकि ये सफलता की नींव है ।

– विली जॉली

संकट से सफलता की ओर ले जाने वाली 12 बातें-

 

1 दृष्टिकोण :

भविष्य दृष्टि की जाँच करें ….आपको क्या नजर आता है ? क्यूंकिआप जो देखते हैं आपको वही मिलता है !

इस पर हेलन केलर का एक कोट्स है –

क्या अंधेपन से भी बुरी चीज है ?हाँ !आँखों की रौशनी…       अगर भविष्य-दृष्टि न हो!

– हेलन केलर

 

2-यह समझ लें की जिंदगी उतार-चढ़ाव का खेल है :

कई बार आप कार का शीशा बन जाते हैं ,तो कई बार मक्खी बन जाते हैं।

3-अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें 

अगर सपना आपके पास पर्याप्त है तो कोई भी समस्या हो आपको कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

4-निर्णय लें 

 है तो आपको यह निर्णय लेना होगा की आप इससे कैसे निपटेंगे ?

5-दहसत में ना आएं 

दहसत से  कमजोर बन जाते हैं,आपको शक्ति नहीं मिलती है। स्थिर बने रहें ,सकरात्मक रहें।

6-रुकें और सोंचें 

पीछे हटें ,सोंचें और ऊँचा सोंचें ,बड़ा सोंचें। अपने अंदर और बाहर जांच करें। आपके सामने जो भी विकल्प है उसपे गौर करें।

7-कर्म करें 

आप कैमरे के सामने खड़े हो सकते हैं ,बत्तियां भी चालू हो सकती ,परन्तु जब तक आप कर्म नहीं करेंगे कुछ भी नहीं होगा।

8-जिम्मेदारी लें 

समस्या का सामना करें ,इसे खोजने और मिटाने की जिम्मेदारी लें। जिम्मेदारी से भागे नहीं।

जिम्मेदारी पर और पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें –

9-अपने क्रोध का दहन करें 

क्रोध को शांत करने के वजाय इसका सकरात्मक प्रयोग करें।

10-आस्था रखें

आप हमेसा ईश्वर पर भरोषा रखें ,वह आपके साथ हैं ,आपके लिए बेहतर समय आने वाला है।

11-हाँ कहें

अपने सपने के लिए हाँ कहें ,अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित होने के लिए हाँ कहें। जितने का संकल्प लें ,हारने से इंकार करें।

12-सबकुछ अच्छा है

यह कहना सीखें की सबकुछ अच्छा है। ईश्वर के प्रति कृतज्ञ बने रहें कृतग्यता का नजरिया आपको हमेसा संकट से निकाल लाएगा।

एक प्रेरणा देने वाली कविता

एक मिनट –

मेरे पास सिर्फ एक मिनट है ,
इसमें सिर्फ साठ सेकंड है ,
यह मुझपर थोपा गया है , मैं इससे इंकार कर नहीं सकता ,
मैंने इसे चाहा नहीं था , इसका चुनाव नहीं किया था
लेकिन इसका प्रयोग करना मुझपर है ,
अगर मैं इसे गवाऊंगा , तो मैं कष्ट उठाऊंगा ,
अगर मैं इसका दुरप्रयोग करूँगा , तो मुझे इसका जवाब
देना होगा ,
एक छोटा सा मिनट
परन्तु इसमें अमरता छुपी है !

– डॉ बेंजामिन मेज।

 

RELATED POST-

अनमोल वचन-Motivational Quotes in Hindi

यह पोस्ट मैंने शानदार कितन संकट सफलता की नींव है ! से लिया है जिसके लेखक विली जॉली हैं। आप इस किताब को अवश्य पढ़ें।

निवदन – अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया  हो तो कमेंट जरूर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *