सकरात्मक सोंच

सफलता की ओर ले जाने वाला आठवां महामंत्र है -सकरात्मक सोंच। सकरात्मक सोंच की आदत विकसित करें।आइये समझें -सुबह से लेकर रात तक कितने निर्णय लेते हैं ,कितने ही काम करते हैं और इन निर्णयों में गौर करें आपने कितने सकरत्मक और कितने नकरात्मक निर्णय लिए।




 

 

जो सोंच रखते हैं ,उन विस्वास करते हैं। आपकी सोंच ही आपके व्यक्तित्व को सकरात्मक या नकरात्मक बनाता है। आप भी हमेशा आशावादी,आत्मनिर्भर आत्मविश्वाशी ,खुशमिजाज लोगों के साथ रहें ,आप ऐसा करेंगे तो उन सभी सकरात्मक विचार वाले व्यक्तियों की सकरात्मकता आपमें भी आ रही क्यूंकि सकरात्मकता और जोश संक्रामक होता है एक से दूसरे में फैलता है लेकिन सावधनी रखें की नकरात्मकता ही ऐसी चीज है जो सकतमकता हो हरा सकती है और नकतमकता भी फैलता है यह भी संक्रामक होता है।

 

 

अगर हम अपना सकरात्मक सोंच बनाना है तो,तो ये महत्वपूर्ण कदम उठाने पड़ेंगे-

  • अपनी सोंच बदले और अच्छाई खोजें -हमें अच्छे चीज का खोजी बनना पड़ेगा।

  • हर कदम फ़ौरन करने की आदत डालें।

वह चांदनी रातों में सोया
उसने सुनहरी धुप का मजा उठाया
कुछ करने की तयारी में जिंदगी गुजारकर
वह गुजर गया कुछ न कर-हारकर।
– जेम्स अलबरी

 

 

 

  • अहसान मानने का नजरिया को विकसित करें।

  • लगातार ज्ञान हासिल करने का कार्यक्रम बनाइये

  • अच्छे स्वाभिमान का निर्माण कीजिये।

  • जरुरी कामों को पसंद करने की आदत डालें।

  • अपने दिन की शुरुआत किसी अच्छे काम से करें।

 

असफल होने पर आप निराश हो सकते हैं ,लेकिन अगर आप कोशिश ही नहीं की तो आपका नाश हो जाएगा।
-बेवर्ली सील्स।

 

 

 

आप हमेशा अच्छे माहौल में रहें ,अच्छी बातें करें ,अच्छा सोंचें ताकि अवचेतन मन भी वैसा ही करने लगे। आप से पहले जो भी सफल हुए हैं उनका प्रमुख हथियार यही तो रहा है -सकरात्मक सोंच।

 

 

एक आदमी अपनी नै कार धो रहा था ,तभी उसके पडोसी ने पूछा ,आपने यह कार कब खरीदी ? उस आदमी ने जवाब दिया ,इसे मेरे भाई ने दिया है। पडोसी ने कहा- काश! मेरे पास भी ऐसी कार होती। इस पर आदमी ने कहा-आपको यह सोंचना चाहिए की काश! मेरा कोई ऐसा भाई होता। पडोसी की पत्नी बातचीत को सुन रही थी ,उसने बिच ,में टोककर कहा -मैं सोंचती हूँ -काश! वह भाई मैं होती।यह है सोंचने का सकरात्मक नजरिया।

 

 

अच्छा-अच्छा ,सोंचो करो।
मीठा मीठा बोला करो।
अच्छे लोगों से मिलते रहो ,
नया हमेशा करते रहो।

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *