सकारात्मक नज़रिया-सफलता की गारंटी

सकारात्मक नज़रिया-सफलता की गारंटी है -सम्बंध ,सामर्थ्य ,नज़रिया ,नेतृत्व इन चार क्षेत्रों पर महारथ हासिल करने से कोई भी व्यक्ति सफल हो सकता है । 

 

लेकिन इन चार क्षेत्रों में मुझे सबसे ज़्यादा ज़रूरी लगा नज़रिया । तो मैंने सोंचा क्यूँ आपसे नज़रिया के बारे में बात किया जाए । 

 

 

जितनी जानकारी पिछले पाँच हज़ार सालों में उत्पन्न हुई है उस से अधिक जानकारी पिछले तीस वर्षों में उत्पन्न हो चुकी है । 

 

 

नज़रिया बहुत हि महत्वपूर्ण उनके लिए जो नेतृत्व कर रहे हैं अपने टीम का या करेंगे , क्यूँकि नज़रिया बहुत हि गहरा प्रभाव डालता है किसी कि ज़िन्दगी पर । नज़रिया किसी की ज़िंदगी में रंग भर सकता है ।

नज़रिया आपको बना सकता है और मिटा भी । 

नज़रिया आपके टीम का एक खिलाड़ी होता है । सकारात्मक नज़रिया किसी भी टीम की जितने ( सफलता) की गारंटी नहीं होती है लेकिन नकारात्मक ( ख़राब ) नज़रिया हारने ( असफलता) की गारण्टी होती है । 

 

विजेता का सम्बंध योग्यता से नहीं नज़रिया से होता है । दुर्भाग्य से बहुत से लोग इस बात को मानना नहीं चाहते हैं और योग्यता को ही प्रतमिकता देते हैं जबकि बहुत योग्यता वाली टीम ख़राब नज़रिया के कारण हार जाती है ।

 

 

हम इसे ऐसे समझ सकते हैं :-

प्रतिभा + नज़रिया = परिणाम 

बेहतरीन टीम + सड़ा नज़रिया = बुरी टीम ।

बेहतरीन टीम + ख़राब नज़रिया = औसत टीम । 

बेहतरीन प्रतिभा + औसत नज़रिया = अच्छी टीम ।

बेहतरीन प्रतिभा + अच्छे  नज़रिये = बेहतरीन टीम । 

 

अगर बेहतरीन परिणाम चाहते हैं तो अच्छे सकारात्मक नज़रिया वाले खिलाड़ी चाहिए । दूसरों के सम्पर्क पर आने पर नज़रिया फैलता है । नज़रिया संक्रमक है ।

एक खिलाड़ी से दूसरे में फैलता है । टीम की कई चीज़ें संक्रमक नहीं होती है मसलन प्रतिभा, अनुभव और अभ्यास करने की इक्षाशक्ति ।

 

 

आपको याद रखना होगा की हम अपने आस- पास के लोगों से प्रभावित होते हैं और उनके नज़रिये से भी ।

हममें प्रभावित होने की प्रवृति होती है ।और उनलोगों की नज़रिया अपनाने की प्रवृति होती है जिनके साथ वो समय बिताते हैं ।

Related Post-

गणेश जी की प्रथम पूजा क्यूँ होती है ?

 

सकारात्मक नज़रिया-सफलता की गारंटी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *