सर्गे ब्रिन और लेरी पेइज

सर्गे ब्रिन और लेरी पेइज
FILE PICTURE

सर्गे ब्रिन और लेरी पेइज-गूगल आज विश्व का अव्वल नंबर का वेब सर्च एंजन है। इंटरनेट पर  ढूंढने के लिए हम जिस प्रोग्राम का उपयोग  करते हैं,उसे सर्च एन्जिन कहते हैं। विश्व के 43 प्रतिसत लोग गूगल का इस्तेमाल करते हैं।

 

किन्तु सर्गे ब्रिन और लेरी पेइज नाम के दोस्तों ने गूगल बनाया तब उसे बेचने के लिए यह दोनों मित्रों ने महीनों तक बड़ी-बड़ी कंपनियों का संपर्क लिया था लेकिन किसी भी कंपनी ने उसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई।

 

सर्गे और लेरी जब इंटरनेट पर कुछ ढूंढने के लिए बैठते थे। तब सबसे बड़ी कठिनाई समय की रहती थी। उस ज़माने  की गति बहुत मंद थी और सर्च एंजिन आपके टाइप किये हुए स्पेलिंग के मुताबिक ही पेज  निकालते थे। स्पेलिंग में अगर गलती हो तो गलत चीजों का ढेर इकठ्ठा कर देते थे।

 

वो एंजिन जो चीजें ढूंढ लाते थे वो सब अस्त-व्यस्त स्थिति में आती थी। इसी वजह से हमें हजारों पेज में से अपनी आवश्यकता के अनुसार पेज ढूंढने में समय गवाँना पड़ता था।

सर्गे और लेरी ने सर्च एंजिन में ऐसा सुधार किया की जैसे आप सर्च के बॉक्स में एक-एक अक्षर टाइप करते जायेंगे वैसे-वैसे उनमें  बनते हुए नाम बॉक्स निचे  दीखता जाये।

 

इसी वजह से आपको पूरा शब्द वाक्य टाइप करने की आवश्यकता ना रहे। सिर्फ उसे पसंद करके खोज सके। इस इंजिन को आपकी टाइप करने की पद्धति और उसके साथ पसंद किये हुए शब्दों से पता  था की आपको दरअसल क्या चाहिए।

 

बाद  हुई चीजों को आपकी आवश्यकता के अनुसार क्रम में रख देता है,जिससे आप अपना समय बचा सकें।

 

इस सर्च   एंजिन को खरीदने के लिए कोई राजी नहीं था,इसलिए दोनों मित्रों ने  स्वयं मिलकर,पैसे उधार लेकर,अपना पहला सर्च एंजिन बना लिया। उनका सर्च एंजिन हाल में सबसे लोकप्रिय है। 

 

आज यह दोनों मित्र अरबपति हैं और 40 साल कम उम्र वाले धनपतियों उनका द्वितीय स्थान है। फिलहाल सादगीपूर्ण जीवन जी रहे हैं। 

 

गूगल अपने कर्मचारियों  बेहतरीन कार्य वातावरण और विश्व में श्रेष्ट वेतन देती है। 

 

RELATED POST-

 

उठना सीखो

इंसान जो सोंचता है वही बन जाता है।

 

 

उनका मुद्रालेख है-

अपने ग्राहकों को  अधिक से अधिक सुविधाएँ दें 

और नियंत्रण कम से कम रखें और अपने कार्य में श्रद्धा रखें।   

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *