10 सबसे बड़े पश्चाताप -जीवन में 10 सफलता के सूत्र

मानव जीवन के आखिरी समय के 10 सबसे बड़े पश्चाताप ,जिसे आपने जान लिया और आपने अभी से भी इस पार आपने काम करना सुरु किया तो आपकी जीवन संवर जाएगी।  मानव जीवन के दस पश्चताप-

 

समय बहुत तेज़ी से आगे बढ़ रहा है।

10 सबसे बड़े पश्चाताप -सफलता के सूत्र
10 सबसे बड़े पश्चाताप -सफलता के सूत्र

 

 

जो आप करना चाहते हैं उसका सही समय अभी है नहीं तो पश्चताप के अलावा कुछ नहीं बचता है इसलिए तो  मुनिश्री तरुण सागर जी कहते हैं सबसे अच्छी पाठशाला है -बुढ़ापा , आप समय ज़रूर निकाल कर बूढ़े व्यक्ति के पास बैठें और उनका पश्चताप आपका सीखें ।

10 सबसे बड़े पश्चाताप -जीवन में 10 सफलता के सूत्र

1-आख़िर कबतक यूँ ही रोते रहोगे ?

 जीवन जो बेहद प्रभावशाली गीत गाने के लिए मिला था , आख़िर कबतक यूँ ही रोते रहोगे ? आख़िरी समय में तुम पाओगे की तुमने निस्तब्ध होकर जीवन गुज़ारा है ।

2-आपके पास सफलता पाने की सारी शक्ति है उसका प्रयोग सुरु करें

अपने आख़री समय में महसूस करोगे की अच्छा काम करने की और अच्छी चीज़ें करने की प्राप्त हुई नैसर्गिक शक्ति का अनुभव लिया ही नहीं ।

3-कुछ काम ऐसा जरूर करें जिसे देखकर लोग प्रेरित हों –

आख़िर दिन में अहसास होगा की तुमने ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे अन्य लोग प्रोत्साहित हों सके ।

4-कठिन काम करने का साहस करें

आख़िर दिनों में तुम्हें लगेगा की तुमने जीवन में कोई कठिन काम करने का साहस  ही नहीं किया ,जिससे तुम्हें कोई पुरस्कार नहीं मिला ।

5-अच्छे मौक़े न गँवायें

आख़िर दिनों में आपको यह आपको समझ आएगा की तुमने अपने जीवन में कई अच्छे मौक़े गँवायें – जो तुम्हें किसी विशेष स्थान पर ले जाते ।

तुम झूठी धारणा में आकर साधारण योग्यताओं पर संतोष मानते आए हैं ।

6-प्रॉब्लम को चैलेंज समझ कर स्वीकार करें

आख़िर दिनों में तुम्हें यह सोंच कर बुरा लगेगा की तुमने आपदा को जीत में बदलने का हुनर नहीं सिखा ।

7-लोगों की मदद करें

तुम्हें इस बात का खेद रहेगा की तुमने सिर्फ़ ख़ुद की मदद की , लोगों की मदद नहीं कर सके ।

8-नेतृत्व करना सीखें आगे बढ़ो ,अपने निर्णय लो

आख़िर दिनों में तुम्हें यह पता चलेगा की तुमने ऐसा जीवन व्यतीत किया जो तुम्हें समाज ने सिखाया- सिवाय नेतृत्व करने के ।

9-अपनी योग्यता को वास्तविकता में बदलने  प्रयास करें

आख़िर दिनों में तुम्हें इस वास्तविकता का पता चलेगा की तुम्हारी क्षमता तुम्हें पता ही नहीं चली । अपनी योग्यता को वास्तविकता में बदलने का कभी प्रयास ही नहीं किया ।

10-जितना आपको मिल रहा है उससे अधिक देना सीखें

आख़िर दिनों में तुम्हें अहसास होगा की तुम एक एक नेता बन सकते थे । जीवन में जो पाया उससे अधिक देकर जा सकते थे । तुमने यह कभी स्वीकार ही नहीं किया की तुम्हारी घबराहट के कारण तुमने चुनौतियाँ का स्वीकार नहीं किया और अपना जीवन बरबाद कर लिया ।

 

उम्मीद करता हूँ दोस्तों की आपको मानव जीवन के 10 सबसे बड़े पश्चाताप -जीवन में 10 सफलता के सूत्र पोस्ट पसंद आया होगा ।

 

RELATED POST-

तरुण सागर जी के कड़वे वचन

अति प्रभावकारी लोगों की 7 आदतें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *