6 डर को दूर कैसे करें -डर पर क़ाबू पाने के कारगर उपाय

6 डर को दूर कैसे करें -डर पर क़ाबू पाने के कारगर उपाय क्या है ? आज के पोस्ट में इसके बारे में बातें करेंगे । 


बुनियादी डर

 

बुनियादी डर –छठी इंद्री  कभी काम नहीं करेगी ,जब तक की इन तीन – अनिर्णय ,शंका और डर ,नकरात्मक चीजों में से एक भी आपके  रहेगी। 

इन सूक्ष्म शत्रुओं की आदतों से धोखा न खाएं कई बार वे अवचेतन मन छिपे रहते हैं जहाँ उनका पता लगाना मुश्किल होता है और उनका उन्मूलन करना और भी मुश्किल होता है। 

 

छह बुनियादी डर –

 

छह बुनियादी डर होते हैं ,जिनके तालमेल से हर इंसान किसी न किसी समय कष्ट उठाता है। ज्यादातर लोग सौभग्यशाली हैं ,अगर वे सभी छह डरो से कष्ट न उठाते हों। 

  • गरीबी का डर 
  • आलोचना का डर 
  • बीमारी का डर 
  • प्रेम  खोने का डर 
  • बुढ़ापे का डर 
  • मृत्यु का डर 
  •  

गरीबी का डर –

गरीबी और अमीरी में कोई मिलाप नहीं हो सकता ! अगर आप दौलत चाहते हैं

तो आपको गरीबी की ओर ले जाने वाली परिस्थति को स्वीकार करने से इंकार कर देना चाहिए।

गरीबी का डर  कुछ नहीं ये  मानसिक अवस्था है ! लेकिन यह किसी काम में सफलता के अवसरों को नष्ट करने के लिए पर्याप्त है। 


इसके लक्षण – उदासीनता ,अनिर्णय शंका ,चिंता ,अति-सावधानी ,टालमटोल। 

RELATED POST- 

मुट्ठी में तक़दीर 

 

आलोचना का डर –

 

आलोचना होने पर ज्यादातर लोग बेहद असहज होते हैं और कुछ मामलों में वे बेहद निराश और और उदाश भी हो सकते हैं।

 

आलोचना आपकी पहलशक्ति ( लीडर का प्रमुख हथियार ) छिन  लेता है , आपकी कल्पना शक्ति को आपसे दूर कर देगा। 

 

आलोचना मानव ह्रदय में डर या द्वेष का बीज  बो देगी ,लेकिन इससे प्रेम या स्नेह उत्पन्न नहीं होगा। 

बीमारी का डर –

 

यह डर शारीरिक और सामजिक दोनों तरह की अनुवांशिकता में मिलता  है।

एक प्रतिष्ठित चिकत्सक का अनुमान था की वह डॉ के पास इलाज के लिए जाने वाले 75 प्रतिसत लोग ह्य्पोकोंड्रिया ( काल्पनिक बीमारी ) से पीड़ित होते हैं। 


डॉ कई बार रोगियों की सेहत के  किसी नए माहौल में भेज देते हैं क्यूंकि मानसिक  नजरिये बदलना जरुरी होता है। 

 

चिंता का डर –

 

चिंता डर पर आधारित मानसिक अवस्था। है यह धीरे-धीरे लेकिन लगातार काम करती है।

यह हानिकारक और सूक्ष्म होता है। कदम दर कदम यह खुद को अंदर धकेलती है ,

जब तक की यह खुद को अंदर धकेलती है ,जब तक की यह इंसान की तर्कशक्ति को पंगु नहीं कर देती है।

यह ऐसी मानसिक अवस्था है जिसे नियंत्रित किया जा। 

 

 जिस व्यक्ति के मन में डर भरा होता है ,वह न सिर्फ बुद्धिमतापूर्ण कामों के अवसरों को नष्ट कर देता बल्कि ये विनाशकारी कम्पन्न दूसरों के मन तक पहुंचाकर उनके अवसरों को नष्ट कर देता है। 

 

 

 

6 डर को दूर कैसे करें- छह प्रकार के डर को दूर करने के उपाय के बारे आपको पता चल गया होगा , मुझे उम्मीद है की आपको ये पसंद आया होगा । 

 

 

 

 

1 thought on “6 डर को दूर कैसे करें -डर पर क़ाबू पाने के कारगर उपाय”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *