इच्छा

इच्छा – सफल होने के लिए प्रेरणा किसी मकसद को हासिल करने की गहरी इच्छा से जन्म लेती है। इच्छा बहुत ही जरुरी तत्व है सफलता के लिए। नेपोलियन हिल ने भी लिखा है -इंसान का दिमाग जिन चीजों को सोंच सकता है,  पर यकीं...
Continue reading »

मुट्ठी में तक़दीर

यह प्रेरक उद्धरण मैंने लिया रॉबिन शर्मा जी के शानदार किताब मुट्ठी में तक़दीर ( THE MASTER MANUAL ) व्यक्तिगत तथा पेशेवर महानता के जीवन बदल देने वाली मारदर्शिका- मुट्ठी में तक़दीर- आप जब यह किताब अपडेंगे तो सच में आपको अहसास हो जायेगा की...
Continue reading »

Kadve pravachan-अपने घर बहुरानी मत लाना

  अपने घर बहुरानी मत लाना ।    related post-   कड़वे प्रवचन -kadve pravachan गणेश जी की प्रथम पूजा क्यूँ होती है ?   लगनशील व्यक्तियों के पुरस्कार उस कष्ट से ज़्यादा बड़े होते हैं , जो विजय से पहले ज़रूर आता है ।   ...
Continue reading »

आज के सुविचार

आज के सुविचार-चाहे आप जो भी सोंचें ,आपका हर दिन बेहतर से बेहतर बनता जा रहा है। कोई भी इंसान पीछे की तरफ नहीं जा सकता है। आप सिर्फ आगे जा सकते हैं और ऊपर की तरफ ही जा सकते हैं।  जब आप आपको महसूस...
Continue reading »

पुरषों को महिलाओं की कौन सी बात पसंद नहीं आती है ?

पुरषों को महिलाओं की कौन सी बात पसंद नहीं आती है ?महिलाओं को यह याद रखना चाहिए की पुरुष दूसरे गृह से आये हैं इसलिए उनका सोंचने का तरीका अलग है। बिना मांगी सलाह देने या हानिरहित आलोचना से भी पत्नी अनजाने में ही  पति...
Continue reading »

जिंदगी के पुरस्कार दिलाने वाली नौ आदतें

जिंदगी के पुरस्कार दिलाने वाली नौ आदतें
जिंदगी के पुरस्कार दिलाने वाली नौ आदतें- पहली आदत – कृतग्यता – जिंदगी में जो चीज मिली है उसके लिए कृतज्ञ रहें। रोजाना उस चीज की प्रशंसा करें जो आपको मिली है।   ” आज कितना सुन्दर दिन है। ”  ” भगवन ने कितनी अच्छी सेहत और...
Continue reading »

तरुण सागर जी कथा – Kadve pravachan

तरुण सागर जी की कथा – कुछ लोग कहते हैं की तरुण सागर  जी कथा में हंसाते हैं। मैं कहता हूँ अरे बाबा ! यह सत्संग हंसने के लिए है ? प्रवचन सुनने के बाद रोना आना चाहिए की अब तक का मेरा जीवन यूँ ही खाने-पिने...
Continue reading »

कड़वे प्रवचन

कड़वे वचन  – अगर आप तरुणसागर का कहा मानें तो मैं आपसे एक निवेदन करना चाहूंगा की अपने मित्र,चरित्र को हमेसा रखें पवित्र क्यूंकि यही है जिंदगी का असली इत्र। आपको पता है की चरित्र के पतन में प्रायः गलत मित्रों और गलत चित्रों का...
Continue reading »

गणेश जी की प्रथम पूजा क्यूँ होती है ?

गणेश जी की प्रथम पूजा क्यूँ होती है ? मैं इसका कोई धार्मिक जवाब देने वाला नहीं हूँ । मैंने एक प्रवचन में सुना था अच्छा लगा तो मैंने सोंचा क्यूँ ये आपलोगों से शेयर किया जाए । हम अपने ग्रंथों से बहुत कुछ सिख...
Continue reading »

मुनिश्री तरुणसागर जी : एक सफर

                  मुनिश्री तरुणसागर जी : एक सफर  आज मैं मुनिश्री ( एक ऐसे महापुरुष जो कलयुग में भी सबका भला चाहने  वाले , निः स्वार्थ भाव से सबको बराबर नजर से देखने वाले ) के सफर पर लेकर चलता...
Continue reading »

मुनिश्री तरुण सागर जी -कड़वे प्रवचन

मुनिश्री तरुण सागर जी -कड़वे प्रवचन में कहते हैं – मेरा कहा मानें तो आप अपने घर के सामने कचरा पेटी और दरवाज़े पर खूँटी ज़रूर गाड़कर रखिए । वह इसलिए की रात को जब आप दुकान आएँ तो बाहर का किच-किच का कचरा ,...
Continue reading »

बाँटने से लाभ होता है

बाँटने से लाभ होता है -आपकी सफलता या खुसी आपसे सुरु होती है। यह बाँटने से बढ़ता है। एक बार एक व्यक्ति ने मुनिश्री तरुण सागर जी से पूछा की महाराज कोई ऐसा आशीर्वाद देदो की कारोबार में लाभ ही लाभ हो तो मुनी जी ने...
Continue reading »

अनमोल वचन

अनमोल वचन –  सफलता का मतलब सिर्फ़ असफल होना नहीं है , बल्कि सफलता का सही मतलब है पूरा युद्ध जितना , बस ना की छोटी- मोटी लड़ाइयाँ जितना । – एडविन सी. लिब्स । हमारे सामने मौजूद किसी भी तथ्य से ज़्यादा महत्वपूर्ण उस...
Continue reading »

आपके पडोसी कैसे हैं ?

आपके पडोसी कैसे हैं ?-चीजें हमें वैसी नहीं दिखती हैं जैसी वे हैं , बल्कि वैसी दिखती जैसी हम हैं। हमारा व्यव्हार ही हमारा आइना है।     हम जैसे होंगे वैसे ही हमारे सामने वाले लोग भी होंगें। आप जैसे होंगे आपके पड़ोसी भी...
Continue reading »

Translate »