पालतू तोते की कहानी

safe shop

आज के इस पोस्ट में मैंने एक पालतू तोते की कहानी लिखा है जो network marketing और salesperson को ज़रूर पसंद आएगा ।

एक महिला पालतू जानवरों की दुकान में गई और उसने अपना दिल बहलाने के लिए एक तोता ख़रीद लिया । वह तोते को घर ले गई , परंतु अगले दिन उसने दुकान में आकर कहा , तोते ने एक शब्द नहीं बोला !

 

दुकान मालिक ने पूछा – क्या आपने तोते के पास आइना रखा है ? तोते आइने में ख़ुद को देखना पसंद करते हैं । इस सलाह पर अमल करते हुए उस महिला ने एक आइना ख़रीदा और लौट गई ।
अगले दिन वह दोबारा आइ । एक बार फिर उसने कहा की तोता अब भी बोल नहीं रहा है ।




दुकान के मालिक ने कहा की सीढ़ी क्यूँ नहीं ख़रीद लेती हैं ? तोते को सीडी पर चड़ना- उतरना पसंद करते हैं । इस सलाह पर अमल करते हुए उस महिला ने सीढ़ी ख़रीद लिया और घर लौट गई ।
ठीक उसी तरह अगले दिन वह फिर दुकान में उसी पुरानी कहानी के साथ लौट आइ – तोता कुछ नहीं बोल रहा है ।
क्या तोते के पास झूला है ? तोतों को झूले पर आराम करना पसंद है अच्छा लगता है । उस महिला ने झूला ख़रीद लिया और घर लौट गई ।
अगले दिन उसने दुकान में आकर यह दुखद सूचना दी कि तोता मर गया है । दुकान मालिक ने कहा , मुझे यह सुनकर बहुत अफ़सोस हुआ ! क्या तोता मरने से पहले कुछ कहा ?

 

हाँ , महिला ने जवाब दिया “ मरने से पहले उसने कहा था , क्या दुकान में कुछ खाने- पीने की चीज़ नहीं मिलती है ? ‘’

इसी तरह से लोग नेट्वर्क मार्केटिंग कम्पनी में जुड़ तो जाते हैं और वो सबकुछ करते हैं , फ़ंक्शन में जाते हैं हर ट्रेनिंग में जाते हैं मोटिवेशनअल ऑडीओ सुनते हैं विडीओ देखते हैं लेकिन कम्पनी का प्लान नहीं दिखाते हैं ।

 

और इसलिए उनका भी हाल तोते जैसा ही होता है । वो कम्पनी में ज़्यादा दिन तक टिक नहीं पाते हैं




Related post-

समय का प्रबंधन 

इंसान जो सोंचता है वही बन जाता है।

धन्यवाद दोस्तों ,

उम्मीद है आपको आज ये पोस्ट पसंद आया होगा । अगर आपको हमारा ये पोस्ट अच्छा लगा तो शेयर और लाइक करना ना भूलें ।

positive shareing
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website

Translate »