पालतू तोते की कहानी - Hindi story for Network marketing | Hindi में कहानी

पालतू तोते की कहानी

पालतू तोते की कहानी
safe shop

आज के इस पोस्ट में मैंने एक पालतू तोते की कहानी लिखा है जो network marketing और salesperson को ज़रूर पसंद आएगा ।

एक महिला पालतू जानवरों की दुकान में गई और उसने अपना दिल बहलाने के लिए एक तोता ख़रीद लिया । वह तोते को घर ले गई , परंतु अगले दिन उसने दुकान में आकर कहा , तोते ने एक शब्द नहीं बोला !

 

दुकान मालिक ने पूछा – क्या आपने तोते के पास आइना रखा है ? तोते आइने में ख़ुद को देखना पसंद करते हैं । इस सलाह पर अमल करते हुए उस महिला ने एक आइना ख़रीदा और लौट गई ।
अगले दिन वह दोबारा आइ । एक बार फिर उसने कहा की तोता अब भी बोल नहीं रहा है ।




दुकान के मालिक ने कहा की सीढ़ी क्यूँ नहीं ख़रीद लेती हैं ? तोते को सीडी पर चड़ना- उतरना पसंद करते हैं । इस सलाह पर अमल करते हुए उस महिला ने सीढ़ी ख़रीद लिया और घर लौट गई ।
ठीक उसी तरह अगले दिन वह फिर दुकान में उसी पुरानी कहानी के साथ लौट आइ – तोता कुछ नहीं बोल रहा है ।
क्या तोते के पास झूला है ? तोतों को झूले पर आराम करना पसंद है अच्छा लगता है । उस महिला ने झूला ख़रीद लिया और घर लौट गई ।
अगले दिन उसने दुकान में आकर यह दुखद सूचना दी कि तोता मर गया है । दुकान मालिक ने कहा , मुझे यह सुनकर बहुत अफ़सोस हुआ ! क्या तोता मरने से पहले कुछ कहा ?

 

हाँ , महिला ने जवाब दिया “ मरने से पहले उसने कहा था , क्या दुकान में कुछ खाने- पीने की चीज़ नहीं मिलती है ? ‘’

इसी तरह से लोग नेट्वर्क मार्केटिंग कम्पनी में जुड़ तो जाते हैं और वो सबकुछ करते हैं , फ़ंक्शन में जाते हैं हर ट्रेनिंग में जाते हैं मोटिवेशनअल ऑडीओ सुनते हैं विडीओ देखते हैं लेकिन कम्पनी का प्लान नहीं दिखाते हैं ।

 

और इसलिए उनका भी हाल तोते जैसा ही होता है । वो कम्पनी में ज़्यादा दिन तक टिक नहीं पाते हैं




Related post-

समय का प्रबंधन 

इंसान जो सोंचता है वही बन जाता है।

धन्यवाद दोस्तों ,

उम्मीद है आपको आज ये पोस्ट पसंद आया होगा । अगर आपको हमारा ये पोस्ट अच्छा लगा तो शेयर और लाइक करना ना भूलें ।

positive shareing
0Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »