रिश्ते कैसे सुधारें

 

 

 

 

 

 

 

 

क्या  आपके रिश्ते लोगों के  साथ ठीक नहीं ? क्या आप कितना अच्छा काम करते हैं  तब भी लोग प्रभावित नहीं होते  हैं ? तो ये पोस्ट आपके लिए है रिश्ते कैसे सुधारें यह आपके  जीवन  को सुख से भर  देगा ।

 

RELATIONहर किसी का प्रभाव होता है और आपका प्रभाव सभी लोगों पर बराबर नहीं पड़ता है। आपका सकरात्मक प्रभाव लोगों का जीवन और अधिक सार्थक बनाया जा सकता है।

प्रभाव डालने वाले व्यक्ति में लोगों के प्रति समग्रता होती है और वास्तविक समग्रता विकाऊ नहीं होती है। समगर्ता छोटी-छोटी बातों से जुडी होती है। समग्रता को विकसित करने व बनाए रखने के लिए लगातार ध्यान दिए जाने की आवश्यकता होती है।

 

समग्रता एक अंदरूनी कार्य है। समग्रता परिस्थितियों से निर्धारित नहीं होती है ,समग्रता उपलब्धियों पर आधारित नहीं होता है ,सगर्ता का अर्थ प्रतिष्ठा नहीं होता है।लोग आज पथ-प्रदर्शक चाहते हैं , लेकिन वे केवल उन्ही लोगों से प्रभावित होना चाहते हैं जिन पर उन्हें विस्वाश हो, जिनका चरित्र अच्छा हो। अगर आप ऐसा इंसान बनना चाहते हैं , जो बाकि लोगों को सकरात्मक रूप से प्रभावित करे तो , आपको समग्रता के इन गुणों को विकसित करना होगा और हर रोज उनका पालन करना होगा :-

चरित्र का आदर्श अनुरूपता – सच्चा विस्वास आत्भी विकसित हो सकता ,जब लोग हर समय आप पर भरोसा कर सकें।




ईमानदारी से संवांद करें – विश्वशनीय होने के लिए आपको अच्छे संगीत संयोजन जैसा होना चाहिए , यानि आपको शब्दों और स्रों के बिच तालमेल होना चाहिए।

पारदर्शिता का मोल समझें – आप अपनी कमियों को कितना भी छुपाएं , लोगों को आख़िरकार उनके बारे में पता लग जाता है। लेकिन आप लोगों के साथ ईमानदार हैं और अपनी कमियों को स्वीकार करते हैं तो वे आपकी ईमानदारी और समग्रता को सराहेंगे। वे आपसे अच्छी तरह जुड़ सकेंगे।

 

विनम्रता का उदाहरण बनें – अगर आप आके वर्ताव में अहंकार,ईर्ष्या की गंध हो या लगे की खुद को बाकियों से बेहतर समझते हैं , तो लोग आप पर भरोषा नहीं करेंगे।

लोगों की सहायता करने की भावना व्यक्त करें – बाकि लोगों को तरजीह देने से आपका व्यक्तित्व विक्षित होता है और वह स्पष्ट रूप से दिखाई भी देता है। जैसा की जिग-जिग्लर का कहना है , सफल होने में बाकि लोगों की पर्याप्त सहयता करें , आपको भी सफलता मिलेगी।

अपने वादे पुरे करें – कभी ऐसा अस्वाशन न दें , जिसे आप पूरा न कर पाएं। जब आप किसी काम को करने की बात कहें तो उस पर अमल करें। अगर आप अपनी बात को पूरा नहीं कर पते हैं तो इस से दूसरे का भरोषा टूट जाता है।

सेवा करने का रवैया अपनाएं – धरती पर हमारे आने का लक्ष्य सेवा करवाना नहीं , बल्कि सेवा करना है अन्य लोगों को अपना समय देकर आप यह जताते हैं की आपको उनकी परवाह है। मिशनरी डॉक्टर सर विल्फ्रेड टी ग्रेनफेल का मानना था की हम जो सेवा अन्य लोगों को देते हैं वह दरअसल इस पृथ्वी पर रहने का किराया होता है। समग्र व्यक्तित्व देने वाले यानि दानकर्ता होते हैं न की दान लेने वाले।

 

 

जिन लोगों को आप प्रभावित करते हैं उनके साथ उनके साथ दोतरफा साझेदारी को बढ़ावा दें – जब आप समग्रता भरा जीवन जीते हैं , तो लोग आपकी बात सुनते हैं और आपका अनुशरण करते हैं। यह बात हमेसा याद रखें की प्रभावित करने का लक्ष्य व्यवहार-कौशल से काम निकलवाना नहीं है ,बल्कि यह तो सहभागिता है। जब आप अपने जीवन और सफलता में लोगों को शामिल करेंगे , तभी आप स्थायी तौर पर सफल हो पाएंगे।

प्रभाव डालने वाला वयक्ति लोगों का विकाश करता है। पराभव डालने वाला व्यक्ति लोगों की बात को सुनता है। प्रभाव डालने वाले दूसरे व्यक्ति को समझते हैं।

 

 

 

आज का पोस्ट मैंने  लिखा है बहुत ही शानदार किताब से जिसका नाम है -लोगों को प्रभावित कैसे करें इसके लेखक हैं जॉन.सी मैक्सवेल

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *